दबंग निर्देशक अभिनव ने सलमान खान और उनके परिवार पर लगाए गंभीर आरोप

125

सुशांतसिंह राजपूत की मौत के बाद फिल्‍म जगत में आरोपों का दौर शुरू हो चुका है। हाल ही में कंगना रनौट ने फिल्‍म जगत की एक लॉबी पर हमला बोला, जो स्‍टार किड्स के साथ फिल्‍म बनाना बेहतर समझती है। इस कड़ी में एक और नाम जुड़ चुका है फिल्‍म निर्देशक अनुराग कश्‍यप के भाई अभिनव सिंह कश्‍यप का।

अभिनव सिंह कश्‍यप ने सलमान खान की दबंग का निर्देशन किया था। पर, दबंग 2 में कुछ मतभेदों के चलते अभिनव सिंह कश्‍यप फिल्‍म से अलग हो गए थे। अभिनव का आरोप है कि सोहेल खान और परिवार की मिलीभुगत से अरबाज खान डरा धमकाकर उसके करियर को अपने कब्‍जे में लेना चाहते थे।

अभिनव का कहना है कि अरबाज खान ने उनका दूसरा प्रोजेक्‍ट भी बर्बाद किया, जो वह श्री अष्टविनायक फिल्म्स के साथ करने जा रहे थे। अरबाज खान ने राज मेहता को धमकी दी कि यदि इस प्रोजेक्‍ट पर काम किया तो नतीजे अच्‍छे नहीं होंगे।

इसके बाद अभिनव वायकॉम के पास गए, वहां पर उनके साथ ऐसा ही हुआ। इस दौरान मुझे साइनिंग अमाउंट सात करोड़ ब्‍याज सहित वापस करनी पड़ी। ऐसे में रिलायंस एंटरटेनमेंट बचाव में उतरा और बेशर्म का निर्माण शुरू हुआ।

अभिनव का कहना है कि सलमान खान के परिवार ने बेशर्म के रिलीज होने से पहले पीआरओ के माध्‍यम से बेशर्म का दुष्‍प्रचार करना शुरू किया। नतीजन, वितरक फिल्‍म खरीदने से डरने लगे। अभिनव का कहना है कि फिल्‍म बेशर्म ने सिनेमा घरों से बाहर होने से पहले तक 58 करोड़ की नेट कमाई कर ली थी, जो उनके लिए काफी डरावनी थी। इतना ही नहीं, बाद में जयंतीलाल गढ़ा ने रिलायंस के साथ डिजिटल राइट्स की डील को लेकर जो मोल तोल किया था, उसमें भी सलमान खान के परिवार का हाथ था।

अभिनव कश्‍यप आगे लिखते हैं कि वह साल 2017 में सलमान खान के परिवार के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाने के लिए पुलिस स्‍टेशन भी गए थे, लेकिन, पुलिस ने शिकायत दर्ज नहीं की क्‍योंकि पुलिस के अनुसार उनकी शिकायत गैर-संज्ञेय शिकायत थी। अभिनव कश्‍यप ने अपने तनाव, करियर बर्बादी और पारि‍वारिक तनाव के लिए सलमान खान, सोहेल खान, अरबाज खान और सलीम खान को दोषी ठहराया है।

इतना ही नहीं, अभिनव कश्‍यप को लगता है कि सुशांतसिंह राजपूत की खुदकुशी के लिए यशराज फिल्‍म्‍स की कंपनी यशराज फिल्‍म्‍स टेलेंट मैनेजमेंट जिम्‍मेदार हो सकती है और जांच अधिकारियों को इस बात की जांच करनी चाहिए। इतना ही नहीं, कास्‍टिंग कंपनियों और इनके मैनेजरों को कलाकारों के लिए संभावित मौत का फंदा करार दिया है।