अलविदा कह गए ‘हासिल’ अभिनेता इरफान खान

285

बुधवार की सुबह एक बेहद दुखद समाचार मिला, वो समाचार था कि प्रतिभावान अभिनेता इरफान खान नहीं रहे, जिनको कोलन इंफेक्‍शन के चलते मंगलवार को कोकिलाबेन अस्‍पताल में भर्ती करवाया गया था।

हाल ही में इंग्लिश मीडियम में नजर जाए अभिनेताा इरफान ने बुधवार (29 अप्रैल 2020) को मुंबई के कोकिलाबेन अस्‍पताल में अंतिम सांस ली।

बता दें कि साल 2018 में इरफान को कैंसर होने की बात सामने आयी थी। इसके बाद इरफान इलाज के लिए विदेश गए और फिल्‍म जगत से दूरी बनती चली गई। बीमारी के चलते इरफान अपनी हाल ही रिलीज इंग्लिश मीडिया का खुलकर प्रचार भी नहीं कर पाए थे।

इरफान के निधन की ख़बर सबसे पहले फिल्‍मकार सुजीत सरकार ने सोशल मीडिया से सार्वजनिक की। सुजीत सरकार ने एक सोशल मीडिया पोस्‍ट में लिखा, ‘मेरे प्यारा दोस्त इरफान। तुम लड़े और लड़े और लड़े। मुझे तुम पर हमेशा गर्व रहेगा। हम दोबारा मिलेंगे। सुतापा और बाबिल को मेरी संवेदनाएं। तुमने भी लड़ाई लड़ी। सुतापा इस लड़ाई में जो तुम दे सकती थीं तुमने सब दिया। ओम शांति। इरफान खान को सलाम।’

गौर तलब है कि कुछ दिन पहले ही इरफान खान की मां का निधन हुआ। इरफान अपनी तबीयत और लॉकडाउन के चलते उनके अंतिम संस्‍कार में भी नहीं पहुंच सके थे।

इरफान राजस्‍थान के टोंक जिले से संबंधित हैं। इरफान का ज्‍यादातर समय जयपुर में बीता। पद्म श्री से सम्‍मानित अभिनेता इरफान का अभिनय की ओर झुकाव किशोर अवस्‍था से था। इरफान ने एक इंटरव्‍यू में खुलासा किया था कि जब मि‍थुन की मृगया आई थी, तब किसी ने उससे कहा था कि तुम तो मिथुन जैसे दिखते हो, इस बात ने इरफान को काफी उत्‍साहित किया था। जहां तक कि घुंघराले बालों वाले इरफान ने अपने बाल मिथुन जैसे करने की कोशिश भी खूब की।

इसके अलावा इरफान को राजेश विवेक के फिल्‍म जुनून वाले साधू के किरदार ने भी काफी प्रभावित किया था। इसके बाद ही इरफान ने नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा जाने का मन बनाया। इरफान ने 1995 में सुतापा से शादी की थी, जो कि नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में उनके साथ थीं।
इरफान ने अपने 30 साल के लंबे कैरियर में 50 से अधिक भारतीय फिल्‍मों में अभिनय किया। इरफान ने बॉम्‍बे सलाम से फिल्‍म जगत में कदम रखा था। उसके बाद ब्रिटिश फिल्‍म द वॉरियर मिली। लेकिन, हिंदी फिल्‍म जगत के आसमान पर इरफान के अभिनय की अमिट छटा फिल्‍म हासिल से बिखरी।

राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार हासिल करने वाली फिल्‍म पान सिंह तोमर ने इरफान को केवल बेहतरीन अभिनेता की कतार से निकालकर हिंदी जगत के स्‍टार अभिनेताओं की कतार में लाकर खड़ा कर दिया, जो अपने बूते पर बॉक्‍स ऑफिस पर भीड़ खींचने का दम रखते हैं। इसके बाद इरफान खान ने पीकू, द लंचबॉक्‍स, तलवार, हिन्‍दी मीडियम, मदारी, ब्‍लैकमेल, करीब करीब सिंगल जैसी कई सोलो स्‍टार फिल्‍में की।

टेलीविजन जगत में भी इरफान ने श्रीकांत, भारत एक खोज, कहकशां, चाणक्‍य, चंद्रकांता जैसे कई मशहूर धारावाहिकों में काम किया। अंतरराष्‍ट्रीय फिल्‍म जगत में भी इरफान खान की लोकप्रियता कम नहीं रही। अंतरराष्‍ट्रीय फिल्‍म द वॉरियर से शुरूआत करते हुए द नेमसेक, द दार्जिलिंग लिमिटेड, स्‍लमडॉग मिलीअनेयर, न्‍यू यॉर्क आई लव यू, द अमेजिंग स्‍पाइडरमैन, लाइफ ऑफ पाई, जुरासिक वर्ल्‍ड और इंफर्नो तक कई फिल्‍में की।