कंगना रनौट बोलीं, सितारे तो सिर्फ उत्‍पाद का चेहरा होते हैं

0
171

नई दिल्ली। केंद्र सरकार भ्रामक विज्ञापनों के लिए इसका प्रचार करने वाली हस्तियों को सजा देने हेतु नए कानून बनाने पर विचार कर रही है। ऐसे में जब कंगना रनौट की राय जानने की कोशिश की तो बॉलीवुड अभिनेत्री ने कहा कि ब्रांड के प्रचार के लिए स्‍टारों को दोषी ठहराना गलत है।

बेंगलुरू से फोन पर बातचीत में कंगना रनौट ने आईएएनएस को बताया, ‘हम ब्रांड का चेहरा मात्र होते हैं, लेकिन उपभोक्ता ही असली ताकत होते हैं। किस ब्रांड को खरीदना है? यह पूर्ण रूप से केवल उपभोक्ताओं पर निर्भर होता है।’

kangana ranaut 007

गौरतलब है कि केंद्र सरकार जल्द ही एक नया कानून ला सकती है, जिसके तहत विज्ञापनों के जरिए भ्रमित करने वाली हस्तियों पर कार्रवाई की जाएगी। हाल ही में कानून और उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने संसद की स्थायी समिति की एक अनुशंसा को स्वीकार करते हुए कड़े प्रावधानों को लागू करने का निर्णय लिया है, जिसमें दोषी पाए जाने पर 50,00,000 रुपये तक का जुर्माना सहित जेल की सजा भी हो सकती है।

कंगना रनौट का कहना है कि उत्पाद और इसके निर्माण की जिम्मेदारी कलाकारों पर नहीं हो सकती। गौरतलब है कि बॉलीवुड के कई सितारों को उत्‍पाद से जुड़ने के बाद आलोचनाओं का सामना करना पड़ा है। -आईएएनएस