सद्भावना दूत मामला : मिल्‍खा का सलीम को दो टूक जवाब

0
177

नई दिल्ली। दिग्गज एथलीट मिल्खा सिंह ने मंगलवार को ‘सद्भावना दूत’ मामले में बॉलीवुड के सुपरस्टार सलमान खान के बचाव में आए उनके पिता सलीम खान के बयान पर पलटवार किया। मिल्खा ने कहा कि उन पर फिल्म बनाकर फिल्म जगत ने उन पर कोई उपकार नहीं किया है।

सलीम खान ने सोमवार को भारतीय ओलम्पिक संघ (आईओए) द्वारा सलमान खान को इस वर्ष रियो ओलम्पिक में भारत का सद्भावना दूत बनाए जाने के फैसले के खिलाफ हो रही आलोचनाओं पर प्रतिक्रिया देते हुए अपने बेटे का बचाव करने की कोशिश की थी।

ओलम्पिक पदक विजेता योगेश्वर दत्त, मिल्खा सिंह सहित खेल जगत के कई दिग्गजों ने आईओए के इस फैसले की आलोचना की है।

salman khan salim khan

अपने बेटे सलमान के पक्ष में सलीम ने सोमवार को एक ट्वीट में कहा था, “मिल्खा जी, यह बॉलीवुड नहीं बल्कि भारतीय फिल्म जगत है, जो विश्व भर में व्यापक रूप से विख्यात है। यह वही फिल्म जगत है, जिसने आपकी धूमिल हो रही छवि को फिर से लोगों के सामने उजागर किया।”

सलीम खान, मिल्खा सिंह के जीवन पर बनी फिल्म ‘भाग मिल्खा भाग’ का जिक्र कर रहे थे।

सलीम के इस बयान की प्रतिक्रिया में मिल्खा ने अपने दो दिन पुराने बयान को फिर से दोहराया।

मिल्खा ने टेलीविजन समाचार चैनल ‘टाइम्स नाउ’ से कहा, “उन्हें (सलीम) अपने विचार पर कायम रहने दें। मेरे पास इस संबंध में कहने के लिए कुछ नहीं है। मैंने इस बारे में अपने विचार साझा कर दिए हैं। ओलम्पिक जगत के सभी सदस्य हमारे एम्बेस्डर हैं।”

दिग्गज एथलीट ने कहा, “आईओए को सोचना चाहिए कि एम्बेस्डर की क्या जरूरत है? जो भी टीम ओलम्पिक में हिस्सा लेने जा रही है, उसके सभी सदस्य एम्बेस्डर हैं। भारत के 120 करोड़ की आबादी में से ये खिलाड़ी हमारे एम्बेस्डर हैं, तो हमें किसी और एम्बेस्डर की क्या जरूरत?”

मिल्खा ने कहा, “किसी और को इस पद पर नियुक्त करने का कोई तुक नहीं है। अगर किसी एम्बेस्डर की जरूरत है, तो हमारे पास सचिन तेंदुलकर, पी. टी. ऊषा, अजीतपाल सिंह, राज्यवर्धन सिंह राठौर जैसी खेल हस्तियां हैं।”

उन्होंने कहा, “यह अच्छी बात है कि उन्होंने मेरे जीवन पर फिल्म बनाई, लेकिन मुझे नहीं लगता कि ऐसा करके फिल्म जगत ने मुझ पर कोई अहसान किया है। मैंने अपनी कहानी एक रुपये में दी थी और यह कोई छोटी चीज नहीं है। अगर उनका (फिल्म जगत के लोगों का) कोई कार्यक्रम हो, तो क्या वो किसी खिलाड़ी को अध्यक्ष या एम्बेस्डर बनाएंगे?”

इस बीच, भाजपा सांसद और अभिनेत्री किरन खेर और फिल्मकार सूरज बड़जात्या जैसी हस्तियों ने सलमान का समर्थन किया है।

किरन ने यहां ‘दादा साहेब फाल्के एक्सिलेंस’ पुरस्कार समारोह में कहा, “यह काफी अच्छा फैसला है। मुझे सलमान खान पर काफी गर्व है। जो भी लोग कह रहे हैं कि केवल एक खिलाड़ी को सद्भावना दूत बनाया जाना चाहिए, मैं उन लोगों से अलग रहना चाहूंगी।”

किरन ने कहा, “यह सोचने की कोई जरूरत नहीं है कि केवल एक खिलाड़ी ही देश का प्रतिनिधित्व कर सकता है। हमें प्रेरित करने वाली कोई प्रतिष्ठित व्यक्ति ब्रांड एम्बेस्डर बन सकता है।”

किरन ने यह भी कहा, “मैं खेल जगत से और भी अधिक उदार होने का अनुरोध करूंगी। अच्छे दिल वाले इंसान बनें और सलमान को भी सम्मान दें। हम कलाकार भी मेहनती होते हैं और बेहतरीन काम करते हैं।”

बड़जात्या ने कहा, “यह बहुत ही खुशी की बात है। वह हमेशा से ही खेल प्रेमी रहे हैं और अच्छा क्रिकेट, फुटबाल खेलते हैं और साथ ही एक अच्छे साइकिलिस्ट हैं। मैं उन्हें काफी करीब से जानता हूं और उनके लिए काफी खुश हूं।”

सलमान के प्रोडक्शन में बनी फिल्म ‘हीरो’ से बॉलीवुड में कदम रखने वाले अभिनेता सूरज पंचोली ने भी अभिनेता का समर्थन करते हुए कहा, “मुझे लगता है कि यह एक अच्छा फैसला है, क्योंकि वह काफी लोकप्रिय हैं और वह कुश्ती पर एक फिल्म भी कर रहे हैं। हो सकता है इस वजह से भी फैसला लिया गया हो।”

जब इस विवाद के बारे में निर्देशक करण जौहर से पूछा गया, तो उन्होंने कहा, “मुझे सलमान खान पसंद है। जो भी उन्होंने किया है, उसके हिसाब से वह इसके लिए सर्वश्रेष्ठ हैं।”

अभिनेता सिद्धार्थ मल्होत्रा ने कहा, “मैं इस विवाद के बारे में ज्यादा नहीं जानता। जहां तक ओलम्पिक की बात है, तो जिन लोगों ने यह फैसला लिया है, सही किया है। वह अपनी फिटनेस के लिए जाने जाते हैं। जिन भी अधिकारियों ने उनका चुनाव किया है, निश्चित तौर पर कुछ सोच के किया होगा।”

कैटरीना कैफ ने कहा कि सलमान खान के साथ विवाद की घटनाएं कोई नई बात है।

क्या खेल गतिविधियों के लिए किसी फिल्‍म स्‍टार को चेहरा बनाना सही है ? आईएएनएस