अगले महीने आयोजित होगा अहमदाबाद इंटरनेशनल चिल्ड्रेन फिल्म फेस्टिवल

0
7620

भारत समेत 31 देशों की 100 से भी ज्यादा बाल फिल्मों को एंट्री मिली

अहमदाबाद इंटरनेशनल चिल्ड्रेन फिल्म फेस्टिवल के तीसरे संस्करण के आयोजन की घोषणा हो चुकी है, जो इस साल आयोजित किया जाएगा। कोरोना के बाद खुल रहे माहौल को देखते हुए फेस्टिवल आयोजकों में फेस्टिवल आयोजन को लेकर काफी उत्साह देखने को मिल रहा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार अहमदाबाद इंटरनेशनल चिल्ड्रेन फिल्म फेस्टिवल (Ahmedabad International Children Film Festival) आयोजक इसके तीसरे संस्करण का आयोजन 24, 25 और 26 दिसंबर 2021 को सामान्य रूप से करने के मूड में है, यदि परिस्थितियों ने साथ न दिया तो इसका आयोजन YouTube चैनल पर ऑनलाइन किया जाएगा।

बता दें कि AICFF एक ऐसा मंच बनता जा रहा है, जो दुनिया भर से बाल सामग्री को एक मंच पर लेकर आ रहा है। साल 2019 और 2020 में लगभग 25 देशों से 300 से अधिक फिल्मों की एंट्री हुई थी जबकि इस बार भारत सहित 31 देशों से 102 से अधिक फिल्मों की एंट्री हो चुकी है। गौरतलब है कि AICFF के लिए फिल्म सब्मिट करने की अंतिम तिथि 7 दिसंबर 2021 है, इस तारीख तक निर्माता निर्देशक अपनी फिल्म Filmfreeway, https://filmfreeway.com/aicff पर सब्मिट कर सकते हैं।

फेस्टिवल संस्थापक चेतन चौहान बताते हैं कि इस साल की श्रेणियों में फीचर फिल्म : (41 मिनट या उससे अधिक), लघु फिल्म : (40 मिनट या उससे कम), वृत्तचित्र फिल्म : (5 से 40 मिनट), छात्र फिल्म : (5 से 40 मिनट) शामिल है जबकि पुरस्कार श्रेणियाँ इस प्रकार हैं : बेस्ट डायरेक्टर फीचर फिल्म, बेस्ट डायरेक्टर डॉक फिल्म, बेस्ट डायरेक्टर शॉर्ट फिल्म, बेस्ट शॉर्ट फिल्म, बेस्ट स्टूडेंट फिल्म, बेस्ट डॉक्यूमेंट्री फिल्म, बेस्ट चाइल्ड एक्टर फीचर फिल्म, बेस्ट एक्टर फीचर फिल्म, बेस्ट स्टोरी फीचर फिल्म, ब्रॉन्ज काइट अवार्ड, सिल्वर काइट अवार्ड और गोल्डन काइट अवार्ड।

इस बार फेस्टिवल के साथ सलाहकार के रूप में प्रसिद्ध उमा दा कुन्हा जुड़ी हैं। इस बारे में बात करते हुए उमा दा कुन्हा कहती हैं, “एक माध्यम के रूप में फिल्म बच्चों के दिमाग तक पहुंचने के सबसे सुलभ तरीकों में से एक है। जब संचार माध्यम के रूप में अच्छी तरह और सरलता से फिल्म का उपयोग किया जाता है, तो यह सभी आयु समूहों और विशेष रूप से युवाओं के लिए एक अमूल्य शिक्षण उपकरण होने का इनपुट बनती है, जिनके दिमाग ताजा और अधिगम के लिए खुले होते हैं।”

इसके अलावा फेस्टिवल डायरेक्टर के रूप में राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म ढ़ के निर्देशक मनीष सैनी और ज्यूरी सदस्यों के रूप में अभिनेत्री आरती पटेल और फिल्म निर्देशक गिरीश मकवाना अपनी सेवाएं देंगे।

फेस्टिवल के संस्थापक और प्रचारक चेतन चौहान ने कहा, ‘हमारा प्रयास हमेशा बाल सिनेमा के साथ और अधिक करने के लिए रहेगा। AICFF उन इशारों में से एक है, जिसे हमने समाज के लिए अपने बच्चों को बच्चों के सिनेमा की दुनिया का अनुभव देने के लिए शुरू किया है, खासकर जब बच्चों की सामग्री पर कम ध्यान दिया जाता है, और हम चाहते हैं कि अधिक लोग हमारी आने वाली पीढ़ी पर ध्यान दें।”