प्रत्युषा बनर्जी : सपनों से भरे जीवन का अंत

0
223

मुंबई। टेलीविजन अभिनेत्री प्रत्युषा बनर्जी अभी अपने जीवन की शुरुआत ही कर रही थीं। लेकिन अचानक ख़बर मिली कि प्रत्युषा ने खुदकुशी कर ली है। स्तबध रह गया।

किशोरावस्था में टेलीविजन धारावाहिक ‘बालिका वधू’ में मझोली आनंदी के किरदार से अपने करियर की शुरुआत करने वाली झारखंड के जमशेदपुर निवासी प्रत्युषा अपने उत्साह से फूले नहीं समा रही थीं और उनकी आंखों में कई सपने थे।

Pratyusha Banerjee 004

आनंदी के किरदार के लिए चुने जाने पर प्रत्युषा ने कहा था, “आप मेरे शब्दों को ध्यान रखना। मैं झारखंड और बिहार को गौरवान्वित करने वाली हूं।”

गोरेगांव वेस्ट स्थित अपने एक फ्लैट में शुक्रवार को फांसी लगाकर आत्महत्या कर इस युवा अभिनेत्री ने सबको हैरान कर दिया।

प्रत्युषा के सपने कब दु:स्वप्नों में बदल गए? ऐसी क्या परेशानी थी, जिसने उसे इतना बड़ा कदम उठाने पर मजबूर कर दिया? इस हादसे ने जिया खान आत्महत्या मामले की यादें ताजा कर दीं।

इस वर्ष जनवरी में प्रत्युषा को अपने प्रेमी राहुल राज सिंह के कारण पुलिस की बदसलूकी का शिकार भी होना पड़ा। राहुल कथित तौर पर कार ऋण न देने का आरोप था।

Pratyusha Banerjee 003

यह प्रत्युषा दूसरा प्रेम असफल हुआ प्रेम संबंध था। इससे पहले भी मारकंड मल्होत्रा के साथ उनके प्रेम संबंध सही नहीं रहे और उनके लिए यह एक दुखद घटना बनकर समाप्त हुआ।

अपने इस संबंध से निजात पाने के लिए वह विवादस्पद रियलिटी टेलीविजन शो ‘बिग बॉस-7’ की प्रतिभागी भी बनीं।

‘बिग बॉस’ के घर में जब उन्हें बार-बार बच्ची बुलाया गया, तो उन्हें काफी क्रोधित होते हुए भी देखा गया, लेकिन उन्होंने यह बात स्वीकारी कि वह वहां काफी असुरक्षित महसूस कर रही थी।

शो से बाहर होने के बाद प्रत्युषा ने मुझे बताया, “मैं इस शो में सबसे युवा प्रतिभागी थी, लेकिन काफी अंतर्मुखी हूं। मैं अपने असल जीवन में काफी कम लोगों के साथ घुली-मिली हूं। अचानक मुझे इतने सारे अनजान लोगों के बीच रखा गया, जिनसे मैं कभी नहीं मिली।”

Pratyusha Banerjee 002

प्रत्युषा ने बताया कि शो में हर कोई उनसे काफी बड़ा था। यह काफी डरावना, लेकिन चुनौतीपूर्ण था। इस अनुभव में से वह काफी सशक्त हुईं। हालांकि, इस शो में उन्होंने काफी अच्छे दोस्त भी बनाए।

उन्होंने बताया, “काम्या पंजाबी मेरी सबसे अच्छी दोस्त थी। मैं अरमान जी और तनीषा जी तथा एजाज खान के भी काफी करीब आई। वे मेरे जीवन भर के मित्र बन गए। मैंने सभी लंबित परियोजनाओं को पूरा किया और निजी मुद्दों को हमेशा के लिए बंद कर दिया। मैं इस अनुभव से अपने नए जीवन की शुरुआत के लिए तैयार हूं। मुझे शुभकामनाएं दें।”

‘बालिका वधू’ के बाद से उनके करियर में कुछ खास अंतर नहीं आया था। मूल रूप से झारखंड के जमेशदपुर की रहने वाली प्रत्युषा ने जो भी हासिल किया था, उस पर उन्हें गर्व था।

प्रत्युषा ने कहा था, “टीवी शो ‘बालिका वधू’ से ‘बिग बॉस’ के बीच काफी लंबे समय का अंतर था और यह मैं मानती हूं। मुझे पता है कि इस बीच में कुछ मुद्दों के कारण सुर्खियों में भी रही, लेकिन मैंने खबरों में रहने के लिए विवाद खड़े नहीं किए।”

उन्होंने कहा, “समय काफी दुर्भाग्यपूर्ण था, लेकिन मैं विवाद खड़े करने वाली आखिरी इंसान होती। अगर मुझे सुर्खियों में रहने के लिए योजना बनानी होती, तो मैं कोई बड़ा विवाद खड़ा करती।”

प्रत्युषा की आत्महत्या के मामले ने ही एक बड़ा विवाद खड़ा कर दिया है। (आईएएनएस)

सुभाष के. झा (यह लेखक के निजी विचार हैं)