मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का शुक्रवार सुबह दिल की धड़कन रुकने से देहांत हो गया। कुछ दिन पहले ही सरोज खान को सांस लेने में हो रही तकलीफ के चलते मुम्‍बई के एक अस्‍पताल में भर्ती करवाया गया था। इस दौरान सरोज खान की कोरोना वायरस जांच भी की गई थी और रिपोर्ट नैगेटिव आई थी।

71 वर्षीय कोरियोग्राफर सरोज खान ने हाल ही में करण जौहर की फिल्‍म कलंक के गाने तबाह हो गए को कोरियोग्राफ किया था। सरोज खान का जन्‍म 22 नवंबर 1948 में मुम्‍बई में हुआ था और सरोज खान का परिवार भारत पाकिस्‍तान विभाजन के बाद पाकिस्‍तान से भारत आया था।
सरोज खान का असली नाम निर्मला नागपाल था और सरोज खान ने तीन साल की उम्र में बाल कलाकार के रूप में ताराना फिल्‍म में काम किया। इस फिल्‍म में श्‍यामा के बाल किरदार को सरोज खान ने निभाया था।

बढ़ती उम्र के साथ सरोज खान का झुकाव अभिनय से ज्‍यादा डांस की ओर हुआ और सरोज खान ने बैकग्राउंड डांसर काम करना शुरू किया। सरोज खान ने उम्र में 30 साल बड़े कोरियोग्राफर और डांस मास्‍टर बी सोहनलाल से शादी कर ली थी।

सरोज खान ने एक इंटरव्‍यू में कहा था कि तब वे स्‍कूल में पढ़ती थी और डांस मास्‍टर बी सोहन लाल ने उनके गले में काला धागा बांधा और इस तरह उन दोनों की शादी हुई थी। इस समय सरोज खान की उम्र केवल 13 साल ही थी। सोहन लाल और सरोज खान का रिश्‍ता लंबा नहीं चला। कहा जाता है कि सरोज खान को पता नहीं था कि सोहन लाल के पहले से चार बच्‍चे हैं।

चार साल के बाद सोहन लाल से अलग होने पर सरोज खान ने 1966 में सरदार रोशन खान से निकाह किया और इस्‍लाम धर्म को स्‍वीकार किया। 1974 में सरोज खान ने गीता मेरा नाम से कोरियोग्राफर के तौर पर अपने करियर की शुरूआत की। पर, सरोज खान को मि. इंडिया के मशहूर गाने हवा हवाई से पहचान मिली।

सरोज खान ने श्रीदेवी और माधुरी दीक्षित के साथ काफी काम किया। माधुरी दीक्षित को नृत्‍य कौशल सिखाने वाली सरोज खान ही हैं। माधुरी दीक्षित और सरोज खान का रिश्‍ता काफी लंबा चला।