Wednesday, January 19, 2022
HomeCine Specialकश्‍मीर कंफिलिक्‍ट पर इमरान हाशमी और दीया मिर्जा के वेब शो से...

कश्‍मीर कंफिलिक्‍ट पर इमरान हाशमी और दीया मिर्जा के वेब शो से बॉलीवुड को लेनी चाहिए प्रेरणा

अनुच्‍छेद 370 हटाये जाने के बाद बॉलीवुड ने जिस गर्मजोशी की साथ सरकार के इस कदम का स्‍वागत किया और कहा कि अब वहां के हालत बदलेंगे। लेकिन बॉलीवुड, कश्‍मीर और वहां के कंफिलिक्‍ट से कितना वाकिफ है। ये सवाल उठता है। ऐसे में दीया मिर्जा, इमरान हाशमी और राजीव खंडेलवाल के वेब शो से बॉलीवुड के मेकरों को प्रेरणा लेने की जरूरत है।    

आपको बता दें भारत ने बीते 60 सालों में एक लड़ाई जो सबसे अधिक लड़ी है, वह पाकिस्‍तान के साथ है और उसका ग्रांउड जीरो कश्मीर है। देश के सबसे शांत स्‍थानों में से एक कश्‍मीर की विडंबना है कि उसे राजनीतिक प्रकोप, लड़ाई और आतंकवाद को क्षेलना पड़ता है, जिसने कश्‍मीर से उसकी शांति छीन रखी है। मनमोहक भूखंड के माध्‍यम से कई कश्मीरियों की कहानियों को उजागर करना, आम लोगों से इसके स्थिति और प्रभाव को समझने और प्रतिबिंबित करने का आग्रह करने वाला कंसेप्‍ट इन संवेदनशील भागों यानी कश्‍मीर कंफिलिक्‍ट को दर्शाते हैं। 

ये तीन वेब शोज ‘हक से (2018)’, ‘काफिर(2019)’ और बार्ड ऑफ ब्लड (yet to release) हैं, जिन्होंने इस विषय पर शानदार ढंग से कश्‍मीर कंफिलिक्‍ट के विषय को छुआ है और यह हममें से हर एक को ईमानदारी से सोचने पर मजबूर कर दिया है। बॉलीवुड को इन वेब शो से एक प्रेरणा लेनी चाहिए, ताकि यह समझ सकें कि एक कहानी की सच्‍चई को दिखाने में किस तरह से कैसे बारीकियों पर ध्‍यान दिया जाना चाहिए।  

1.  हक से (2018)

कास्‍ट – राजीव खंडेलवाल, सुरवीन चावला, पारुल गुलाटी 

शो ‘हक से’ की कहानी कश्मीर में मिर्ज़ा परिवार की चार सगी-बहनों के इर्द-गिर्द घूमती है। यह उन महिलाओं और परिवारों के लिए एक आधुनिक प्रतिनिधित्व करता है, जो भावुक सपनों के पूरा होने की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

इस शो के जरिये कश्मीर की यात्रा हम सभी भारतीयों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है।  कश्मीर की विडंबना को हर चरित्र और उनके हिस्सों के माध्यम से दिखाते हुए, उनके जीवन में हर आकांक्षा पर बातचीत करते हुए, इसके अभिनेता आपको अपने जीवन और यात्रा में शामिल करते हैं। हक से भावनात्मक उथल-पुथल से भर गया है जो आपको कश्मीरियों के जीवन और राजनीतिक अशांति की निरर्थकता के बारे में गहराई से सोचने का मौका देगा।

2.  काफिर (2019)

कास्‍ट – दीया मिर्जा, मोहित रैना, दीक्षिता जैन 

काफ़िर, भारत और पाकिस्तान के सीमापार संघर्ष से घिरी पाकिस्तानी महिला कैनाज़ की स्वतंत्रता के लिए उसका संघर्ष कहानी एक जटिल कहानी है, जिसे गलत तरीके से कैद किया गया है। कैनाज़ पर आतंकवादी होने के संदेह है, जो अपने देश से अलगाव और पीड़ा से लड़ता है, जबकि उसकी छोटी बेटी उसे समानता और न्याय की दुनिया में विश्वास दिलाने की कोशिश कर रही है। काफ़िर एक दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति का एक सुंदर चित्रण है जिसने कश्मीर में कई लोगों के जीवन को बदल दिया है। दीया मिर्जा और मोहित रैना दोनों ने कैनाज़ अख्तर और वेदांत राठौर की पीड़ा का प्रतिनिधित्व करने के लिए सराहनीय काम किया है।

3.  बार्ड ऑफ ब्लड  (2019) (yet to release)

कास्‍ट – इमरान हाशमी, शोभिता धूलिपाला, कीर्ति कुल्‍हाड़ी 

बलूचिस्तान में बंदी भारतीयों को बचाने के लिए एक खतरनाक मिशन पर निकलने वाले एक पूर्व-रॉ एजेंट की यात्रा, बार्ड ऑफ ब्लड दोनों रोमांचकारी और चौंकाने वाला होने का वादा करता है। इसी नाम की एक पुस्तक के आधार पर, यह सात-एपिसोड नेटफ्लिक्स श्रृंखला भारत-पाक स्थिति पर प्रकाश डालने के लिए एक अलग मार्ग लेती है, जो पहले नहीं खोजी गई थी।

Kulwant Happyhttps://www.filmikafe.com
कुलवंत हैप्‍पी, संपादक और संस्‍थापक फिल्‍मी कैफे | 14 साल से पत्रकारिता की दुनिया में सक्रिय हैं। साल 2004 में दैनिक जागरण से बतौर पत्रकार कैरियर की शुरूआत करने के बाद याहू के पंजाबी समाचार पोर्टल और कई समाचार पत्रों में बतौर उप संपादक, कॉपी संपादक और कंटेंट राइटर के रूप में कार्य किया। अंत 29.01.2016 को मनोरंजक जगत संबंधित ख़बरों को प्रसारित करने के लिए फिल्‍मी कैफे की स्‍थापना की।
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments