बॉलीवुड के वो सितारे, जो अपने पिता की तरह सिल्‍वर स्‍क्रीन पर चमक न सके

0
978

आम ही कहा जाता है कि डॉक्‍टर का बेटा डॉक्‍टर, टीचर का बेटा टीचर, और अभिनेता का बेटा अभिनेता बनता है। मगर, बॉलीवुड में ऐसे कई चेहरे हैं, जो अपने पिता के नक्‍शेकदम पर चलने के लिए बड़े पर्दे पर उतरे तो सही, मगर, सिल्‍वर स्‍क्रीन पर अपने पिता जैसी उपस्‍थिति दर्ज करवाने में बुरी तरह असफल हुए।

कुमार गौरव
हिंदी सिने जगत में सिल्‍वर जुबली स्‍टार या जुबली कुमार के नाम से जाने जाते राजेंद्र कुमार के बेटे कुमार गौरव ने लव स्‍टोरी जैसी सदाबाहर रोमांटिक फिल्‍म से बॉलीवुड में एंट्री मारी। पहली ही फिल्‍म ने कुमार गौरव को सुपर स्‍टार बना दिया। 1981 की सुपरहिट फिल्‍म लव स्‍टोरी से शुरू हुआ कुमार गौरव का अभिनय कारवां 1993 तक पूरी तरह धीमा पड़ गया। और उसके बाद इक्‍का दुक्‍का फिल्‍मों में कुमार गौरव नजर आए। कुमार गौरव ने अपने फिल्‍मी कैरियर में दर्जनों फिल्‍मों में काम किया, मगर, सिने दर्शकों को उनकी लव स्‍टोरी, तेरी कसम, नाम, इंद्रजीत और कांटे जैसी कुछ गिनी चुनी फिल्‍में ही याद हैं। कहते हैं कि अभिनेता कुमार गौरव ने लव स्‍टोरी की सफलता के बाद नवोदित अभिनेत्रियों के साथ काम करना बंद कर दिया, जो आगे चलकर ए श्रेणी की अभिनेत्रियां बनीं और बाद में उन अभिनेत्रियों ने कुमार गौरव के साथ काम करने से इंकार कर दिया।

पुरु राजकुमार
अभिनेता राज कुमार अपनी दमदार डायलॉग डिलीवरी के लिए जाने जाते हैं। अभिनेता की इसी अदा ने उनको हिंदी सिनेमा पर कई दशकों तक राज करने का अवसर दिया। मगर, अफसोस कि 1996 में फिल्‍म बाल ब्रम्हचारी में करिश्‍मा कपूर के साथ बड़े पर्दे पर डेब्‍यु करने वाले राज कुमार के पुत्र पुरु राजकुमार को पिता जैसी सफलता न मिल सकी। हालांकि, पुरु राजकुमार ने मिशन कश्‍मीर, हमारा दिल आपके पास है, ख़तरों के खिलाड़ी, एलओसी कारगिल, वीर, एक्‍शन जैक्‍सन जैसी फिल्‍मों में काम किया। मगर, कोई भी किरदार पुरु राजकुमार को पहचान न दिला सका। अंत एक्‍शन जैक्‍सन के बाद पुरु राज कुमार किसी भी फिल्‍म में नजर नहीं आए।

लक्‍की अली
अभिनेता महमूद के बेटे लक्‍की अली, जो संगीत जगत का जाना पहचाना नाम हैं, ने भी सुर फिल्‍म से अभिनय की दुनिया में कदम रखा, ताकि पिता की अभिनय की विरासत को आगे बढ़ाया जा सके। मगर, लक्‍की अली अभिनय के मामले में कच्‍चे खिलाड़ी निकले। हालांकि, बाल कलाकार के रूप में लक्‍की अली बहुत पहले ही फिल्‍म जगत में आ चुके थे। लक्‍की अली ने बातौर अभिनेता सुर, कांटे, कसक, गुड लक, रनवे जैसी फिल्‍में की, लेकिन, सुर और कांटे को छोड़कर कोई भी फिल्‍म बॉक्‍स ऑफिस पर नहीं टिक सकी।

राजीव कपूर
बॉलीवुड के शो मैन कहे जाने वाले अभिनेता राज कपूर के तीसरे पुत्र राजीव कपूर ने भी ऋषि कपूर और रणधीर कपूर की तरह अभिनय की दुनिया में कदम रखा। मगर, राम तेरी गंगा मैली के अलावा कोई भी ऐसी फिल्‍म राजीव कपूर के खाते में नहीं, जो उनको अभिनेता के रूप में स्‍थापित करती हो। राजीव कपूर रणधीर और ऋषि कपूर की तरह अभिनय में लंबी पारी नहीं खेल सके। अभिनय में असफलता हाथ लगने के बाद फिल्‍म निर्माण और निर्देशन में हाथ अजमाने की कोशिश की, जो बुरी तरह फेल रही। प्रेम ग्रंथ का निर्देशन राजीव कपूर ने किया था, जो बुरी तरह असफल रही थी। इसके बाद राजीव कपूर ने आ अब लौट चलें का निर्माण किया और फिल्‍मी दुनिया से अन्‍य कारोबार की दुनिया में लौट गए।

करण कपूर
शशि कपूर के बेटे करण कपूर ने भी अभिनय की दुनिया में कदम रखा। मगर, अफसोस कि इक्‍का दुक्‍का फिल्‍मों में चेहरा दिखाने के बाद मायानगरी से दूर हो गए। करण कपूर फिल्‍म लोहा और सुल्‍तनत में धर्मेंद्र के साथ नजर आए थे। अपने पिता के साथ फिल्‍म जुनून में भी करण कपूर ने काम किया था। हालांकि, एक अभिनेता के रूप में करण कपूर को कभी पहचान न मिल सकी।

फरदीन खान
प्रेम अगन से बॉलीवुड में कदम रखने वाले फिरोज खान के बेटे फरदीन खान का भी फिल्‍मी कैरियर अधिक अच्‍छा नहीं है। फरदीन खान की अंतिम फिल्‍म 2010 में दुल्‍हा मिल गया आई थी। 43 वर्षीय फरदीन खान के खाते में गिनी चुनी हिट फिल्‍में हैं, जो भी मल्‍टीस्‍टारर हैं। 1998 से फिल्‍मी कैरियर शुरू करने वाले फरदीन खान ने 2009 तक जमकर फिल्‍में की। हर साल दो तीन फिल्‍में दी, जो बॉक्‍स ऑफिस पर औंधे मुंह गिरी। अंत 33 साल की उम्र में फरदीन खान ने अभिनय को अलविदा कह दिया और सुर्खियों से गायब हो गए। 43 वर्षीय फरदीन खान हाल ही में उस समय चर्चा में आए थे। जब उनके मोटापे वाली फोटो वायरल हुई थी।

Image Source/Movies Love Story, Veer, Kasak, Ram Teri Ganga Maili, PR