आलोचना से बेहद तकलीफ होती है : अभिषेक बच्चन

0
181

मुंबई। अभिनेता अभिषेक बच्चन के बेशुमार प्रशंसक हैं, लेकिन कभी-कभार सोशल प्लैटफॉर्म पर उन्हें भी अपने काम को लेकर आलोचना का सामना करना पड़ता है। अभिषेक बच्‍चन का कहना है कि आलोचना से उन्हें बेहद तकलीफ होती है।

अभिषेक बच्‍चन को कभी अपने अभिनय कौशल के लिए तो कभी अपनी असफल फिल्मों के लिए सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर आलोचना का सामना करना पड़ता है। क्या इससे उन्हें फर्क पड़ता है? इस सवाल पर जूनियर बच्चन ने कहा, “हां, इससे मुझे तकलीफ होती है। हम इंसान हैं। आलोचना से काफी तकलीफ होती है। सबसे ज्यादा तकलीफदेह यह है कि आपकी चाहे 100 बार प्रशंसा हो, लेकिन एक आलोचना आपका दिन बिगाड़ सकती है। अभिनेता के तौर पर जब आपको बेशुमार प्यार मिलता है, तो अच्छा लगता है, लेकिन हम एक नकारात्मक टिप्पणी का बहुत असर पड़ता है।”

Abhishek Bachchan 002
अभिषेक बच्‍चन ने आईएएनएस से कहा, “हम सभी का मनोरंजन करना चाहते हैं। हम चाहते हैं कि सभी को हमारा काम देखकर मजा आए।”

उन्होंने कहा कि अगर एक प्रतिशत दर्शक भी कहते हैं कि उन्हें फिल्म अच्छी नहीं लगी तो इससे ‘बेहद तकलीफ होती है। इससे बेहद दुख पहुंचता है।’

Abhishek Bachchan 003
उन्होंने कहा, “अगर कलाकार कहते हैं कि उन्हें आलोचना से फर्क नहीं पड़ता तो वे झूठ बोलते हैं। मैं आलोचना को कभी भी नकारात्मकता के रूप में नहीं लेता। मैं इसे सलाह के तौर पर लेता हूं।”

‘बोल बच्चन’ के अभिनेता अपने पिता को अपना सबसे बड़ा आलोचक मानते हैं।

उन्होंने कहा, “वह (अमिताभ) मुझसे ईमानदारी से अपने विचार साझा करते हैं और मुझे बताते हैं कि मैं इसे अलग तरह से कर सकता था।”

अभिषेक जल्द ही साजिद-फरहाद की ‘हाउसफुल 3’ में दिखाई देंगे, जिसमें अक्षय कुमार और रितेश देशमुख भी हैं।

abhishek bachcchan
उनसे यह पूछे जाने पर कि क्या उन्हें अक्षय या रितेश के साथ काम करते हुए असुरक्षा महसूस हुई, उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि कलाकारों को असुरक्षित महसूस नहीं करना चाहिए। अगर आप में अपने काम को लेकर आत्मविश्वास है, तो आपको असुरिक्षत महसूस करने की जरूरत नहीं है। रितेश, अक्षय और मैं अच्छे दोस्त हैं। मैं उन्हें काफी लंबे समय से पर्दे पर और पर्दे के बाहर भी जानता हूं।”

उन्होंने कहा, “बिल्कुल भी असुरक्षा महसूस नहीं हुई।”

अभिषेक बॉलीवुड में हास्य भूमिकाएं भी करते रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह वयस्क कॉमेडी से दूर रहना चाहते हैं।

उन्होंने कहा, “मेरा मानना है कि कोई भी अपने आप हास्य भूमिकाएं नहीं निभा सकता। यह सामग्री पर निर्भर करता है। हास्य भूमिकाएं करना बेहद मुश्किल है। मुझे नहीं लगता कि मुझमें यह करने की काबिलियत है।”

‘हाउसफुल’ श्रृंखला की सभी फिल्में सफल रही थीं। अभिषेक का कहना है कि फिल्म की शूटिंग से पहले उनके मन में घबराहट थी।

उन्होंने कहा, “मेरी पहली प्रतिक्रिया थी, ‘हां, चलो यह करते हैं।’ फिल्म की पटकथा शानदार है और फिल्म के कलाकार भी बेहद मजेदार हैं, इसलिए मैने हां कर दी। लेकिन शूटिंग शुरू होने से पहले मुझे अहसास हुआ कि यह एक बड़ी फिल्म है, इसलिए मुझे ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है। तभी तनाव पैदा होना शुरू हो गया।”

-आईएएनएस/उमा रामसुब्रमण्यम