देखें या नहीं ? हाउसफुल 3

0
272

लंबे समय बाद कॉमेडी फिल्‍म हाउसफुल 3 रिलीज हुई है। फिल्‍म का निर्देशन फरहाद साजिद ने किया है, जो पहले अक्षय कुमार के साथ एंटरटेनमेंट बना चुके हैं। हाउसफुल सीरीज की फिल्‍मों की विशेषता अमीर परिवार, उलझन और हास्‍य है, जो सीरीज की फिल्‍म हाउसफुल 3 में बरकरार है।

फिल्‍म में हीरो से लेकर विलेन तक सब कुछ तीन तीन है। कहानी विदेश में बसे एक भारतीय अमीर बटुक पटेल की है, जिसके तीन बेटियां हैं, मगर, वे बेटियों की शादी नहीं करना चाहता। जब शादी न करने की वजह सामने आती है तो कहानी पहले से अधिक रोचक हो जाती है।

हाउसफुल 2 की तरह किरदारों में उलझन पैदा की गई है, ताकि दर्शकों को हंसाया जा सके। साफ सुथरी कॉमेडी है, यदि एकाध डबल मीनिंग चुटकले को छोड़ दें। बटुक पटेल की बेटियों की शादी होती है या नहीं? होती है तो किस तरह? देखने के लिए हाउसफुल 3 देखें क्‍योंकि स्‍पेंसस का तड़ाका भी हाउसफुल में लगा है।

Housefull 2

कहानी अधिक उलझन भरी नहीं है, कहानी में भावना, हास्‍य, एक्‍शन सब कुछ शामिल किया गया है। सेंडी सुंडी और मेंडी का किरदार बेहतरीन तरीके से गढ़ा गया है। सेंडी सुंडी का किरदार लोगों के जेहन में उतर जाएगा, जो अक्षय कुमार ने निभाया है।

अभिनय की बात करें तो अक्षय कुमार का सेंडी किरदार पूरी फिल्‍म खा जाता है। रितेश दुशमुख का अभिनय भी बेहतरीन है। अभिषेक बच्‍चन पहली बार नजर आए, और उनका किरदार तीसरे नंबर का है, जो स्‍थितियों के अनुसार ठीक ठाक है। देशी विदेश लड़कियों के किरदार के लिए नरगिस फाखरी, जैकलीन फर्नांडीज और लीजा हेडन काफी फिट बैठती हैं। जैकी दादा का किरदार छोटा है, जंचता है और अन्‍य कलाकार भी अपने किरदारों के हिसाब से ठीक ठाक अभिनय करने में सफल रहे।

फिल्‍म का निर्देशन फरहाद साजिद की जोड़ी ने किया है, जो काफी कॉमिक फिल्‍में लिख चुके हैं और एंटरटेनमेंट फिल्‍म बना चुके हैं। वॉट्सएप पर चलने वाले चुटकलों का बेहतरीन तरीके से इस्‍तेमाल किया है। हंसी पैदा करने वाले दृश्‍य क्रिएट करने के लिए साजिद फरहाद को बधाई देना बनता है, विशेषकर सेंडी सुंडी का किरदार गढ़ने के लिए और उर्जा नागरे की एंट्री के बाद किरदारों में उलझन पैदा कर हंसी क्रिएट करने के लिए।

यदि आप टेलीविजन पर प्रसारित होने वाले डबल मीनिंग कॉमेडी शो से उब चुके हो और वीकएंड पर गुदगुदाना चाहते हो तो हाउसफुल 3 आपके लिए एक अच्‍छी फिल्‍म हो सकती है। दिमाग घर पर छोड़कर जाने या लेकर जाने जैसी कोई बात नहीं क्‍योंकि हास्‍य पैदा करने के लिए हमेशा उलू जुलूल करने की जरूरत रहती है, इसलिए उसमें नुक्‍स निकालने का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता और फिल्‍म दृश्‍य आपके दिमाग को ऑटोमेटिक फ्रेश कर देंगे।

Filmikafe की तरफ से फुल एंटरटेनिंग फिल्‍म हाउसफुल 3 को उम्‍दा निर्देशन, अभिनय और क्रिएटिवी के लिए 3 स्‍टार दिए जाते हैं। फिल्‍म समीक्षक का एक अपना नजरिया होता है। इसलिए हमारी राय सभी पर लागू नहीं होती।

– अनंत चौधरी