नकारात्‍मक भूमिकाओं से इसलिए बचती हैं शालिनी कपूर

0
277

मुंबई। छोटे पर्दे पर अपने अभिनय से अलग पहचान बना चुकीं टीवी अभिनेत्री शालिनी कपूर नकारात्‍मक भूमिकाओं से अधिक सकारात्‍मक भूमिकाएं निभाना चाहती हैं। इसके पीछे शालिनी कपूर का अपना एक अलग नजरिया है, जो हाल ही में अभिनेत्री ने हमारे साथ साझा किया।

‘कुसुम’, ‘सात फेरे’, ‘देवों के देव.. महादेव’, ‘कुबूल है’ और ‘स्वरागिनी’ जैसे धारावाहिकों में अलग-अलग भूमिकाओं में अपने अभिनय की छटा बिखेर चुकीं शालिनी कपूर ने कहा, ‘मैं सकारात्मक भूमिकाओं से अधिक जुड़ सकती हूं, क्योंकि मेरा मानना है कि जब भी मैं नकारात्मक भूमिका निभाती हूं, यह मेरे घर तक जाती है और यह मुझे पसंद नहीं। मैं अपने आसपास सकारात्मकता चाहती हूं।”

शालिनी ने आगे कहा, ‘टेलीविजन उद्योग शानदार है। यह पैसा और प्रसिद्धि अधिक देता है, लेकिन अगर एक शो काफी लंबे समय तक चलता है तो कलाकार ऊब जाते हैं, क्योंकि यह नीरस हो जाता है। इसलिए इसे जारी रखने के पीछे सिर्फ पैसा ही वजह बन जाता है।’

अभिनेत्री ने भावी योजना और इच्‍छा के बारे में बात करते हुए कहा, ‘मैं किसी रियलिटी शो या पुरस्कार समारोह की मेजबान बनना चाहती हूं। मेरा कॉमिक कौशल काफी अच्‍छा है। अगर आप मुझे गंभीर पटकथा भी देते हैं तो मैं उसे मजाकिया बना दूंगी।’ -आईएएनएस